Surah Ikhlas in Hindi | सूरह इखलास हिंदी में पढ़िए

Surah Ikhlas
Surah Ikhlas

अस्सलामुअलैकुम दोस्तो क्या आप सूरह इखलास (Surah Ikhlas in Hindi) को हिंदी में पढ़ना चाहते है और गूगल पर सूरह इखलास को हिंदी में सर्च कर रहे थे तो आप बिलकुल सही जगह आये है |आज के इस आर्टिकल में Surah Ikhlas को हिंदी में बताया है |

और उसके साथ साथ सूरह इखलास (Surah Ikhlas) के तर्जुमा को भी बताया है और अगर आपको सूरह इखलास की फ़ज़ीलत और फायदे को जानना है तो उसको भी बताया गया है |

अगर आप छः कलमा हिंदी तर्जुमा के साथ पढ़ना चाहते है तो उसके लिए हमने लिंक दिया है आप यहाँ से पढ़ सकते है|

Pehla Kalmaतय्यबलिंक
Dusra Kalmaशहादतलिंक
Teesra kalmaतमजीदलिंक
Chautha Kalmaतौहीदलिंक
Panchwa Kalmaअस्तगफारलिंक
Chata Kalmaरददे कुफ्रलिंक

और उसके साथ साथ कुछ अहम् बातों को भी बताया गया है |तो आप इस आर्टिकल को पूरा ज़रूर पढ़े आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा |

दोस्तों, सूरह इखलास को हमने हिंदी भाषा के साथ साथ इंग्लिश और अरबिक दोनों भाषा में बताया है आपको जिस भाषा में सूरह इखलास को पढ़ना हो आप उस भाषा में सूरह इखलास को पढ़ सकते है |

सूरह का नामकुल अयातेंसूरह नंबर
सूरह इखलास (Surah Ikhlas)4112
Surah Ikhlas In Hindi

Surah Ikhlas in Hindi

Surah Ikhlas in hindi
Surah Ikhlas in hindi

बिस्मिल्ला–हिर्रहमा–निर्रहीम

कुल हुवल लाहू अहद * अल्लाहुस समद * लम यलिद वलम यूलद * वलम यकूल लहू कुफुवन अहद *

Surah Ikhlas Tarjuma in Hindi

कहो के वोह (मअबूद बरहक़ जिसकी मैं इबादत करता हूँ ) अल्लाह (है) वो एक है | (अल्लाह) बे नियाज़ है | वो न किसी का बाप है और न किसी का बीटा | और कोई उसका हमसर नहीं |

ये भी पढ़ेक़ुरबानी की दुआ

Surah Ikhlas in Arabic

Surah Ikhlas in arabic
Surah Ikhlas in arabic

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

(4)* قُلْ هُوَ ٱللَّهُ أَحَدٌ *(1) ٱللَّهُ ٱلصَّمَدُ *(2) لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ *(3) وَلَمْ يَكُن لَّهُۥ كُفُوًا أَحَدٌۢ

Surah Ikhlas Tarjuma in Arabic

کہو کے وہ (معبود برحق جسکی میں عبادت کرتا ہوں) الله (ہے) وہ ایک ہے – بے نیاز ہے – وہ نہ کسی کا باپ ہے اور نہ کسی کا بیٹا اور کوئی اسکا ہمسر نہیں

Surah Ikhlas in English

Surah Ikhlas in english
Surah Ikhlas in english

Bismillahir Rahmanir Raheem

  • Qul Hu wallahu Ahad.
  • Allahus Samad.
  • Lam Yalid Walam Yulad.
  • Wa-Lam Yakullahu Kufuwan Ahad.

Surah Ikhlas Tarjuma in English

kaho ke Woh (Ma’-bood Barhaq Jiski Main Ibadat Karta Hun) Allah (Hai) Wo Ek Hai. (Allah) Be Niyaz Hai. Wo Na Kisi Ka Baap Hai Aur Na Kisi Ka Beta. Aur Koi Uska Hamsar Nahi.

Surah Ikhlas Ki Fazilat | सूरह इखलास की फज़ीलत

हज़रते अबू सईद खुदनी रज़िअल्लाहु तआला अन्हु से रिवायत है के नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया क्या तुम में से कोई आजिज़ है के वो रात में क़ुरान ए मजीद का तिहाई हिस्सा पढ़ले |

सहाबा को ये बात मुश्किल मालूम हुई उन्हों ने अर्ज़ किया या रसूलल्लाह सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम हम में से कौन इसकी ताकत रखता है आप सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया |

सूरह इखलास एक तिहाई क़ुरान के बराबर है अगर आप तीन बार सूरह इखलास पढ़ ले तो इतनी अल्लाह की रहमत है की पुरे क़ुरान का सवाब मिल जायेगा (Subhanallah) | (बुखारी शरीफ़)

हज़रत आयशा सिद्दीका रजि अल्लाहु तआला अन्हा फरमाती है नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक शख्श को लश्कर में रवाना किया जब लश्कर वापस आया तो लोगो ने कहा |

हुज़ूर ये शख्श जो है जब भी नमाज़ पढ़ाते तो सूरह इखलास पढ़ते सूरह फातिहा के बाद तो नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया पूछो ये क्यों ऐसा करते थे तो जब लीगो ने उनसे पूछा |

तो उन्हों ने कहा ये सूरत रहमान की सिफ़त है इस वज़ह से मैं इसे पढ़ना पसंद करता हूँ नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया इसे बता दो अल्लाह तआला इससे मुहब्बत करता है |

सूरह इखलास से मुहब्बत करने वाले से अल्लाह तआला मोहब्बत फरमाते है तो इस वजह से सूरह इखलास को हमें कसरत से पढ़ना चाहिए |

Surah Ikhlas Padhne Ke Fayde | सूरह इखलास पढ़ने के फायदे

मेरे इस्लामी  भाइयों अगर कोई शख्स बा वजू  इस सूरत को 300 मर्तबा पढ़ ले तो अल्लाह तआला उसे 9 फायदे आता फरमाता है |

पहला फायदा – इस सूरत को 300 मर्तबा पढ़ने वाले के 300 दरवाज़े गज़ब के बंद कर देता है  जिसमें दुश्मनी कहर फितनाः वगैरह | 

दूसरा फायदा –  इस सूरत को 300 मर्तबा पढ़ने वाले के रिज़्क़ के 300 दरवाजे रिज़्क़ के खोल देते हैं | 

तीसरा फायदा –  सूरत को पढ़ने वाले के 300 दरवाजे रहमत के खोल देते हैं  |

चौथा फायदा –  अल्लाह तआला इस सूरत के पढ़ने वाले को अपने इल्म में से इल्म अता फरमाएंगे और अपने सब्र में से सब्र अता फरमाएंगे | 

पांचवा फायदा – पांचवा फायदा में आता है की इसको 36 मर्तबा क़ुरान शरीफ़ पढ़ने के बराबर सवाब मिलगा |

छठा फायदा – छठा फायदा में आता है की इसके 50 साल के गुनाह मुआफ हो जायेंगे | 300 मर्तबा पढ़ने की फज़ीलत है ये |

सातवां फायदा – इस सूरत के पढ़ने वाले के लिए अल्लाह तआला जन्नत में 20 महल बनाएंगे | और हर के दरवाज़े और हर महल के दरवाज़े 70 हज़ार होंगे |

आठवां फायदा – अल्लाह तआला इस सूरत के पढ़ने वाले को दो हज़ार रकाअत नफिल नमाज़ पढ़ने का सवाब अता फरमाएंगे |

नौवां फायदा – अल्लाह तआला इस सूरत के पढ़ने वाले को जब भी इसका इंतेक़ाल होगा इसके जनाज़े में एक लाख दस हज़ार फरिश्ते शमूलियत करेंगे |

दसवां फायदा – अगर कोई शख्स हर नमाज़ के बाद दस मर्तबा यकीन के साथ एतेमाद के साथ इज़्ज़त और अज़मत के साथ दस मर्तबा सूरह इखलास पढ़ ले अल्लाह तआला के ऊपर उस बन्दे की मगफिरत वाजिब हो जाती है अल्लाह तआला अपने ऊपर उस बन्दे की मगफिरत वाजिब फार्मा लेते हैं |

अगर आप 3 मर्तबा दुरूद ए पाक शुरू में और 3 मर्तबा दुरूद ए पाक आखिर में और 3 मर्तबा सूरह इखलास पढ़ करके अपने घर वालों के लिए अपने दोस्त अहबाब के लिए अहलों-अयाल के लिए या अगर

आपके वालिदैन दुनिया से फ़ौत हो चुके हैं उनके लिए आप सिर्फ नियत करें  कि इसका सवाब मेरे फलां को पहुंचाए तो समझ लीजिये एक क़ुरान ए करीम का सवाब आपके फलां को पहुंच गया | अल्लाह हमें इसमें यकीन अता फरमाए 

सूरह इखलास नाज़िल क्यों हुई?

 सूरह इखलास नाज़िल क्यों हुई इसका जो बैकग्राउंड है न वो बहुत ही कमल का बैकग्राउंड है | नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने जब ग़ैर मुस्लिमों के सामने कुफ्फार के सामने अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त का नाम लिया |

पैगाम दिया अल्लाह की तरफ बुलाया तो उन्होंने तरह-तरह के सवाल किया कोई कहता के अल्लाह का नस्ल क्या है कोई कहता था कि सोने का है या चांदी का है लोहे का है या लकड़ी का है |

किस चीज़ का है वो क्या खाता है क्या पीता है रबूबियत उसने किस से विरसे में पाई है उसका कौन वारिस होगा उसके जवाब में अल्लाह तआला ने ये सूरत नाज़िल फ़रमाई |

और अपने ज़ातों-सिफ़ात का बयान फरमा कर मारिफ़त की राह वाज़ेह फरमा दी | यानि बता दिया उसका कोई शरीक नहीं उसका कोई वालिद नहीं उसका कोई बेटा नहीं (Subhanallah) |

सूरह इखलास से जुड़ी हदीस

FAQs

सूरह इखलास हिंदी में क्या है?

सूरह इखलास हिंदी में ” कुल हुवल लाहू अहद * अल्लाहुस समद * लम यलिद वलम यूलद * वलम यकूल लहू कुफुवन अहद * ” है |

सूरह इखलास में कितने आयत हैं?

सूरह इखलास में 4 आयत हैं |

सूरह इखलास के कितने नाम हैं?

सूरह इखलास के 20 नाम हैं?

सूरह इखलास में कितने रुकू हैं?

सूरह इखलास में 1 रुकू हैं?

Conclusion

दोस्तों इस आर्टिकल में Surah Ikhlas इसकी फ़ज़ीलत और फायदे को बताया गया है और Surah Ikhlas in Hindi उसके तर्जुमा को भी बताया गया है | मुझे उम्मीद है के आप को ये सूरह पसंद आया होगा|और हमारी वेबसाइट officialislamicinfo.com पर आते राइये इसी तरह की जानकारी आपको मिलती रहेगी |

और अगर इस आर्टिकल में मुझसे किसी तरह की गलती हो गयी तो आप मुझे नीचे कमेंट करके ज़रूर बताये ताकि मैं उस गलती को ठीक कर सकू|

और इस आर्टिकल को आप अपने दोस्तो और सोशल मीडिया पर शेयर करे ताकि वो लोग भी इस सूरह का फायदा उठा सके |तब तक मैं आपसे अगले आर्टिकल में मिलता हूँ अल्लाह हाफिज़ |

इन्हें भी पढ़े

Taraweeh Ki Dua

Ghar Se Nikalne Ki Dua

Sone Ki Dua

Azan Ke Baad Ki DUa

Qurbani Ki Dua

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *