Pehla Kalma | पहला कलमा तैय्यिब हिंदी में

Pehla kalma

अस्सलामुअलैकुम दोस्तो, आज के इस पोस्ट में मैंने आपको Pehla Kalma क्या है उसको डिटेल में बताया है और उसके साथ-साथ पहला कलमा के तर्जुमाः को भी बताया है हमने पहला कलमा हिंदी, इंग्लिश और अरबिक तीनो भाषा में बताया है आपको जिस भाषा में पढ़ना अच्छा लगता है आप उस भाषा में पढ़ सकते है|

मेरे प्यारे इस्लामी भाईओ और बहनो पहला कलमा को कलमा तय्यिब कहा जाता है लेकिन बहुत सरे लोग “तय्यब” कहते है लेकिन अरबिक ऐतेबार से तय्यब वर्ड नहीं होता है तय्यिब होता है तो इसलिए हमें पहला कलमा तय्यिब कहना है तो चलिए अब ये भी जान लेते है की पहला कलमा तय्यिब (तय्यिब का मतलब होता है “पाक”) क्या है|

Pehla Kalma in Hindi

ला इलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाह

Pehla Kalma Meaning in Hindi

तर्जुमाः अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं हज़रात मोहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल है |

Pehla Kalma in Arabic

لَا إِلَٰهَ إِلَّا ٱللَّٰهُ مُحَمَّدٌ رَسُولُ ٱللَّٰهِ

Pehla Kalma Tarjuma in Arabic

ترجمہ: اللہ کے سوا کوئی معبود نہیں محمد مصطفیٰ صلی اللہ علیہ وسلم اللہ کے رسول ہیں۔

Pehla Kalma in English

Laa ilaaha illal Lahoo Muhammadur Rasool Ullah

Pehla Kalma Meaning in English

There is no worthy of Worship except ALLAH and Muhammad Sallallahu Alaihe Wasallam is the messenger of ALLAH.

Pehla Kalma ki Fazilat

मेरे इस्लामी भाइयो और बहनों मैं आपको बता दूं जो पहला कलमा (कलमा तय्यिब ) है ये बहुत ही वज़नी कलमा है बहुत ही अज़ीमों शान कलमा है दुनिया की जो सबसे अज़ीम दौलत है वह ये कलमा तय्यिबा है जो इस कलमा का इकरार करता है दिल से एक्सेप्ट करता है वो इंसान कामयाब है वो दुनिया में भी कामयाब है और आख़िरत में भी उसकी कामयाबी पक्की है|तो आइये जानते है कलमा तय्यिबा की फ़ज़ीलत क्या है|

सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया जिस शख्स ने अल्लाह की रज़ा के लिए ला इलाहा इल्लल्ला का इकरार किया और उसकी ज़िन्दगी इसी इकरार पर ख़तम हुयी तो वह शख्स जन्नत में जायेगा | जिसने सच्चे दिल के साथ कलमा तय्यिबा पढ़ा और दिल से इसको एक्सेप्ट कर लिया और हमेशा इस कलमा को दिल से मानते हुए ज़िन्दगी गुज़ारी तो वो मरने के बाद ज़रूर जन्नत में जायेगा |तो कलमा तैय्यिबा के बग़ैर जन्नत में दाखिला मुमकिन नहीं है |

एक दूसरे हदीस में आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के जिसने भी ला इलाहा इल्लल्ला को पढ़ लिया वह ज़रूर जन्नत में दाखिल होगा | तो मरने के बाद की जो ज़िन्दगी कामयाब होगी उसकी कंडीशन ये है की अगर वो ” ला इलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाह ” को मानने वाला है तो वो मरने के बाद कामयाब होगा |

और जिसने इसको नहीं माना जिसने अल्लाह को नहीं माना और पैग़म्बरों को नहीं माना मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को आखिरी पैग़म्बर नहीं माना तो फिर मरने के बाद फिर वो जहन्नुम में ज़रूर दाख़िल होगा |

तो अल्लाह तआला को एक मानना ये जन्नत में दाखिल होने के लिए बहुत ज़रूरी है |

हदीस शरीफ में आता है के सातो जमीन और सातो आसमान एक पलड़े में रख दिए जाये और कलमा तय्यिबा एक पलड़े में रख दिए जाये तो ये कलमा तय्यिबा ये वज़नी हो जायेगा सातो ज़मीन और सातो आसमान के मुकाबले में |

जन्नत में दाखिला – अगर ये कलमा हमें याद है और अगर हम इस कलमा को दिल से मानते है तो हमारी निजात पक्की है जन्नत में दाखिला पक्का है |

अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं – इस कलमा में जो चीज़ बताई गयी है की अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं है हमें अपनी ज़िन्दगी की सारी उम्मीदें सब कुछ अल्लाह से मांगना चाहिए |

मौत – अगर मौत के वक़्त अगर ये कलमा जारी हो जाये ” ला इलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाह “तो हज़रात मोहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लमने उसकी जन्नती होने की ज़मानत दी है |

मेरे अज़ीज़ भाइयों और बहनो हमें सुबह और शाम पहला कलमा एक तस्बीह ज़रूर पढ़ना चाहिए सुबह शाम हमें कलमा तय्यिबा को पढ़ने का आदत बनाना चाहिए ताकि जब हमारी मौत आये जब हमारी रूह निकल रही हो तो हमारी ज़बान पर कलमा जारी हो जाये |

और हमें कलमा तय्यिबा को ठीक से पढ़ना चाहिए उसके तलफ़्फ़ुज़ को ठीक करना चाहिए |ये कलमा हर मुसलमान का सही होना चाहिए |

FAQs

Pehla kalma ka Tarjuma Kya Hai?

Pehla kalma ka Tarjuma “अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं हज़रात मोहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल है” है|

पहला कलमा को क्या कहते है?

पहला कलमा को कलमा तय्यिब कहते है|

Conclusion

मेरे अज़ीज़ दोस्तों मैंने आपको इस पोस्ट में पहला कलमा को बताया है और उसके साथ साथ मैंने उसके तर्जुमा को भी बताया है अगर इसमें मुझसे कुछ गलती हो गयी हो तो आप मुझे नीचे कमेंट करके बता सकते है और इस पोस्ट को आप ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करे ताकि दूसरे लोग भी इस कलमा और इसकी फ़ज़ीलत का फ़ायदा उठा सके तब तक मै आपसे से अगले आर्टिकल में मिलता हु अपना ख्याल रखे अल्लाह हाफ़िज़ |

इन्हें भी पढ़े

Ghar Se Nikalne Ki Dua

Sone Ki Dua

Safar ki Dua

Azan ke Baad Ki Dua

Nazar Utarne Ki Dua

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *