दूसरा कलमा शहादत हिंदी में तर्जुमा के साथ | Dusra Kalma in Hindi

Dusra kalma

अस्सलामुअलैकुम दोस्तों, क्या आप गूगल पर Dusra Kalma in Hindi या फिर Dusra Kalma को सर्च कर रहे थे तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये है इस आर्टिकल में हमने दूसरा कलमा इन हिंदी और दूसरा कलमा के बारे में पूरी जानकारी दी है|

हमने दूसरा कलमा के तर्जुमा को भी बताया है और दूसरा कलमा को हिंदी भाषा के साथ – साथ इंग्लिश और अरबिक भाषा में भी बताया है जिससे आपको पढ़ने में आसानी होगी और इसके अलावा भी कुछ अहम् बातों को बताया है तो आप इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़िए गा|

Dusra Kalma in Hindi

Dusra Kalma in Hindi

” अश-हदु अल्लाह इलाहा इल्लल्लाहु वह दहु ला शरी-क लहू व अशहदु अन्ना मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु ”

Dusra kalma ka Tarjuma in Hindi

मैं गवाही देता हूँ कि अल्लाह के सिवा कोई इबादत करने के लायक (माबूद) नहीं। वो अकेला है उसका कोई शरीक नहीं, और मैं गवाही देता हूँ कि हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल (पैग़म्बर ) हैं।

Dusra kalma in Arabic

Dusra kalma in arabic

” اَشْهَدُ اَنْ لاَّ اِلٰهَ اِلاَّ اﷲُ وَحْدَهُ لَا شَرِيْکَ لَهُ، وَاَشْهَدُ اَنَّ مُحَمَّدًا عَبْدُهُ وَرَسُوْلُهُ “

Dusra kalma ka Tarjuma in Arabic

میں گواہی دیتا ہوں کہ اللہ کے سوا کوئی عبادت کرنے کے لائق (معبود) نہیں۔ اس کا کوئی شریک نہیں اور میں گواہی دیتا ہوں کہ حضرت محمد صلی اللہ علیہ وسلم اللہ کے نیک بندے اور آخری رسول (پیغمبر) ہیں۔

Dusra kalma in English

Dusra kalma in english

Ash Hadu Allaa ilaaha illal-laahu wah Da-hoo La Sha-reeka Lahoo wa Ash Hadu Anna Muhammadan A’bdu-hoo Wa Ra-Soo-Lu-hoo.

Dusra kalma ka Tarjuma in English

Mai Gawahi Deta Hun ki Allah ke siwa koi Ibadat karne ke Layak (Mabood) Nahi. Wo Akela Hai Uska Koi Shareek Nahi Aur Mai Gawahi Deta Hun Ki Hazrat Muhammad Sallallahu Alaihi Wasallam Allah ke Nek Bande Aur Akheri Rasool(paigambar) Hai.

Dusra Kalma Ki Ahmiyat

कलमा शहादत की अहमियत का अंदाज़ा हम इस बात से लगा सकते है के जब इंसान कलमा शहादत पढता है तो कलमा शहादत पढ़ने के साथ ही वो कुफ्र व शिर्क से पाक हो जाता है | यानि उस इंसान ने शिर्क की वजह से जो अपना दामन नापाक किया होता है तो जब वह पाक कलिमात अपनी ज़बान से अदा करता है तो वो इस तरह पाक व साफ़ हो जाता है |के हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का मुफीम है के जैसे आज ही वह इस दुनिया में आया है |

मेरे प्यारे इस्लामी दोस्तों, दूसरा कलमा (कलमा शहादत ) एक ऐसा अज़ीम कलमा है जो इंसान को कुफ्र व शिर्क से निजात देता है और न सिर्फ उसे कुफ्र व शिर्क से निजात देता है बल्कि उसे अल्लाह तआला के करीब भी कर देता है |एक तो पाकीज़गी की वजह से और दूसरा हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की रिसालत पर इमान लाने की वजह से |

Dusra kalma (Shahadat) Kamil Iman Ki Nishani

हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते है तुम में से कोई शख्स उस वक़्त तक कामिल इमान वाला नहीं हो सकता जब तक के उसकी ख्वाहिशात मेरी लायी हुई शरीयत के ताबए ना हो जाए |यानि हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इरशाद फरमा रहे है के तुम्हारा इमान उस वक़्त कामिल होगा जब तुम मेरी लाई हुई शरीयत के मुताबिक अपनी ख़्वाहिशात को ढाल लोगे अपनी ख़्वाहिशात को मेरी लाई हुई शरीयत के बुताबिक अपना लोगे | फिर तुम्हारा इमान कामिल हो जायेगा तुम्हारा इमान मुकम्मल हो जायेगा |

मेरे इस्लामी दोस्तो, कलमा शहादत (दूसरा कलमा ) वो अज़ीम कलमा है जो दर हकीकत इंसानी अज़मत का ज़ामिन अक़ीदह भी है | यानि यही वो अक़ीदह है के जिसके सबब इंसान ये कुफ़्र शिर्क से निजात हासिल करता है और यही वो अज़ीम अक़ीदह है जिसकी वजह से वो आख़िरत में भी सुर्खुरू हो जायेगा |

Note – सिर्फ ज़ुबान से कलमा पढ़ लेना ये काफी नहीं बल्कि दिल से भी उसकी तस्दीक़ ज़रूरी है |

FAQs

दूसरा कलमा को क्या कहते है?

दूसरा कलमा को कलमा शहादत कहते है |

कलमा शहादत के कितने अज्ज़ा है?

कलमा शहादत के 2 अज्ज़ा है | 1. तौहीद 2. रिसालत

Conclusion

तो दोस्तो मैंने इस आर्टिकल में Dusra Kalma के बारे में जानकारी दी है अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तो और सोशल मीडिया पर ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करे ताकि वह लोग भी इस कलमा की फ़ज़ीलत का फायदा उठा सके |

और अगर इस आर्टिकल में मुझसे किसी तरह की गलती हो गयी हो तो आप मुझे कमेंट करके ज़रूर बताये ताकि मैं उस गलती को ठीक कर सकूं और अगर आप को दूसरी दुआ को भी पढ़ना है तो हमने उसका लिंक दिया है आप उस लिंक पर क्लिक करके दुआ को पढ़ सकते है तब तक लिए मै आपसे अगले आर्टिकल में मिलता हू अपना ख्याल रखे अल्लाह हाफ़िज़ |

इन्हें भी पढ़े

Pehla Kalma

Ghar Se Nikalne Ki Dua

Azan Ke Baad Ki Dua

Sone Ki Dua

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *